पर उपदेश …!

डॉ० ज्योति प्रकाश

दर्पण से विमुख के मुखर बोल

सूचना के अधिकार के स्थापना दिवस पर आज मध्य प्रदेश के एक शहर से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र में छपे एक ‘विशेष’ आलेख को देख कर भौंचक रह गया! इसमें बड़े पुरजोर लहजे में यह सियापा पढ़ा गया था कि बीते पन्द्रह सालों में ‘सूचना का अधिकार’ जनता को कोई राहत नहीं दिला पाया है!

इसे लिखने वाले महानुभाव स्वयं भी म० प्र० राज्य सूचना आयोग आयुक्त का पद-भोग चख कर सेवा-मुक्त हुए हैं। इसीलिये उनसे बिल्कुल सीधे-सपाट यह सवाल किये बिना नहीं रह पा रहा हूँ

“जब आप स्वयं ही इस आयोग में पीठासीन हुआ करते थे तब क्या अपने ‘आत्मा-विहीन’ शरीर को लेकर वहाँ बिराजते थे?”

यह सवाल इसलिए क्योंकि जब यह महाशय स्वयं ही इस आयोग में पीठासीन हुआ करते थे तब इनके समक्ष अपना पक्ष पूरी प्रबलता से रखने वाले असन्तुष्ट सूचना-आवेदकों की आम प्रतिक्रियाएँ कुछ ऐसी होती थीं जैसे कि, केवल इन्हें ही ज्ञात कारणों से, उस दिन यह अपनी आत्मा को पद की गरिमा के अनुकूल मिले सर्व-सुविधा युक्त सरकारी आवास की किसी खूँटी पर टाँग आये थे!

और, यह सवाल सीधे इनसे ही इसलिए क्योंकि केवल यही बतला सकते हैं कि उक्त मंशा की प्रतिक्रियाएँ देने वाले निराश जन तब यथार्थ के धरातल पर खड़े होते थे? या फिर, अपने तथा-कथित हित सध नहीं पाने की स्वाभाविक सी खीझ उनसे यह रूप धरवाती थी?

(१२ अक्टूबर २०२०)

कोविड-१९ बनाम महामारी : कथ्य-२

Sarokar

आयुर्वेद पीड़ित व्यक्ति के भौतिक (Physical) अवलोकनों से प्राप्त होने वाली जानकारियों के आधार पर अलग-अलग दोषों में अलग-अलग भौतिक सुधारों को अपने उपचार का लक्ष्य बनाती है और तदनुसार ही अपनी औषधि निर्धारित करती है। जबकि होमियोपैथी व्यक्ति-विशेष से सम्बन्धित दैहिक (Phisiological) सूचनाओं का मूल्यांकन कर, और फिर अवचेतन में विलुप्त-प्राय हो चुकी इन दैहिक क्षमताओं को पुनर्जागृत कर, उन्हें ही सम्बन्धित व्यक्ति का समग्रित उपचार करने की प्रेरणा देती है। Continue reading

कोविड-१९ बनाम महामारी : कथ्य-१

Sarokar

वैसे तो इसमें अन्तिम विजय मानव की ही होगी; किन्तु, उसकी यह विजय सदा स-शर्त रहेगी — विषाणु का समूल नाश कभी नहीं होगा। क्योंकि, ऐसे किन्हीं भी प्रयासों से विनष्ट होने से बच रहे विषाणु स्वयं को परिवर्धित कर अपनी प्रकार के भविष्य के समूहों को ऐसे प्रत्येक प्रयास-विशेष के प्रति पूरी तरह से प्रतिरोधी बना लेंगे। सरल शब्दों में, मानव तथा विषाणु के बीच अस्तित्व का ऐसा सन्तुलन सदा बना रहेगा जिसका पलड़ा एक सीमा तक मनुष्य के पक्ष में झुका होगा।
Continue reading

कोविड-१९ बनाम महामारी : तथ्य

Sarokar

परम्परा-वादी विज्ञानियों के लिये उनके द्वारा परिभाषित जीवों से परे जीवन का कोई और अस्तित्व नहीं है। उनकी यह नकारात्मकता चिकित्सा-जगत्‌ का एक ऐसा बड़ा गड्ढा है जिसमें स्वास्थ्य और जीवन-रक्षा की व्यापक सम्भावनाएँ दफ़न हो जाती हैं।
Continue reading

म० प्र० राज्य सूचना आयोग की खुली पोल

Sarokar

म० प्र० राज्य सूचना आयोग आयोग पर बड़ा सवाल उठा है। गैर सरकारी सामाजिक संगठन सजग ने मुख्य सूचना आयुक्त से ही पूछ लिया है कि क्या आयोग स्वयं को देश के समस्त नियमों, कायदों, कानूनों, स्थापित व्यवस्थाओं और मर्यादाओं से ऊपर मानता है? Continue reading

म० प्र० राज्य सूचना आयोग का काला सच

Sarokar

जो सूचना आयोग सरकारी तन्त्र में सम्पूर्ण पार-दर्शिता स्थापित करने की इकलौती जिम्मेदारी के लिए गठित हुआ है, वह स्वयं न केवल घोर अ-पारदर्शी है अपितु अ-पारदर्शिता को बढ़ावा देने के नित नये हथ-कण्डे खोजने में भी जुटा है। आयोग ने तो अधिनियम का दुरुपयोग करना तक सीख लिया है। Continue reading

खेसारी की खेती को कानूनी मंजूरी का मतलब जन-स्वास्थ्य से छलावा

Sarokar

खेसारी का जहर नये सिरे से फन उठा रहा है। इसे कुचलना ही होगा। नहीं तो, ऐसा अनर्थ होगा जिससे मुक्ति की कोई राह कभी नहीं ढूँढ़ी जा सकेगी। एक अनर्थ को रोक सकने की तन्त्र की असमर्थता उस अनर्थ को सामाजिक और कानूनी मान्यता देने की अपनी बद-नीयती को जायज कैसे ठहरा सकती है? Continue reading

फिर से फन उठाता खेसारी का जहर

Sarokar

आधी-अधूरी और अपुष्ट सूचनाएँ उपलब्ध करा खेसारी दाल की खेती को कानूनी मान्यता देने की खबर है। खबर के साथ सोचे-समझे कुतर्क फैलाये जा रहे हैं। खेसारी से जिनके व्यापारिक स्वार्थ जुड़े हैं उनके द्वारा भी, कुछ तथा-कथित कृषि-विज्ञानियों द्वारा भी और शासन-प्रशासन तन्त्र से जुड़े निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा भी। Continue reading