Category: विज्ञान_स्वास्थ्य

अब दूध में डिटर्जेण्ट

खाद्य व पेय सामग्रियों के उत्पादकों-विक्रेताओं को कानूनी संरक्षण देने के लिए ‘सुरक्षित’ सीमा का एक नया, बाजार-वादी, मुहावरा गढ़ लिया गया है। इस और इस जैसे सारे मुहावरों का तकनीकी पेंच यह है कि ऐसे सारे उत्पादनों के अपने आप में अकेले अथवा सम्मिलित रूप से ग्रहण करने की ‘सुरक्षित’ सीमा क्या है, इसका …

Continue reading

दो मिनिट में नूडल : जीवन भर का टण्टा

सच है कि मोनोसोडियम ग्लूटामेट प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। और इस अर्थ में यह एक सुरक्षित खाद्य-तत्व है। किन्तु ऊपर से मिलाये जाने पर यह मष्तिष्क को नुकसान पहुँचा सकता है। ठीक वैसे ही जैसे कोकीन प्राकृतिक तत्व तो है लेकिन कोका पत्तियों से निकाला गया विशुद्ध कोकीन मानव-स्वास्थ्य के लिए महा घातक …

Continue reading

Homoeopathy, Molecular Strain Theory, Mythology & Quantum theory

Out of all available scientific studies, quantum theory seems to have the potential to explain the intricacies involved with Hahnemannian Science. It may enable modern science to understand the mode through which the ‘Bio Prone’ media carries the ‘Drug Information’ in a true homoeopathic dose. Other schools of science lack the relevant tools.

Continue reading

Understanding the Mechanism of Preparing and Dispensing of a Homoeopathic Dose

Sarokar

As an attempt to highlight the basic ‘grey’ area of the present-day philosophy that leads it to gross misinterpretation related to the science and its application, I propose here the mechanism of both – the transformation of substance into the homoeopathic dose as also the response of the (unhealthy) organism to that.

Continue reading

SCIENCE OR NOT : DOES THAT REALLY MATTER?

Laying the finger on the faults in Hahnemann’s philosophy does not inevitably result in putting one in the company of Hecker or Hughes. For, had that occurred while one was meditating upon the philosophy and remained beyond a fault in itself, it only furthers philosopher’s cause.

Continue reading

SCIENCE OR ART? : PUTTING WORDS INTO HAHNEMANN’S MOUTH!

Sarokar

Despite having high potential Hahnemann’s ‘SIMILIA SIMILIBUS CURENTUR’ did not enjoy the honour of being Science. Moreover, it remained stuck merely as a concept ever since. However, it could not develop into a perfect theory of science for two reasons:

Continue reading

सावधान! खतरे बढ़ रहे हैं

Sarokar

‘प्रयोग-धर्मी’ जब सम्भावनाओं के मद में इतना चूर हो जाते हैं कि अपनी एक ‘सफलता’-विशेष के आगे उसके दुष्परिणामों के तमाम संकेतों की जान-बूझकर अनदेखी करने लगते हैं तो जाने-अनजाने वृहत्तर समाज ही ख़तरे की सूली पर लटक जाता है। ‘बेहतर चिकित्सा’ और ‘बेहतर औषधि’ के नाम पर आदमी में बीमारियाँ और गहरे बैठायी जा …

Continue reading

चिकुनगुनिया और डेंगू : एक ही थैली के चट्‍टे-बट्‍टे

Ateet Ka Jharokha

विश्‍व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी थी कि डेंगू बुखार का एक नया दौर इस महा-मारी के कारक विषाणुओं की संक्रमण-क्षमता के अबाध्य रूप से कायम रहने के कारण जल्दी ही शुरू होगा! किन्तु, संगठन के तमाम दावों को झुठलाते हुए, डेंगू नहीं चिकुनगुनिया का ताजा प्रकोप सामने आया।

Continue reading